संविधान दिवस पर किसानों को मिला आंसू गैस का तोहफा; सर्दी के मौसम में करना पड़ा पानी की बौछारों का सामना

प्रदर्शन कर रहे किसानों का कहना है की मोदी सरकार अम्बानी – अडानी के गोद में बैठ कर हमारा शोषण करना चाह रही है। सरकार को किसान हितों की कोई फ़िक्र नहीं है। The Modi government doesn’t care about the lives of farmers in India.

Police hit protesting farmers with water cannon. (Source: Twitter)

The Ganga Times, Gaya: किसान बिलों के विरोध में पंजाब और हरियाणा (Punjab and Haryana) के किसान 26 से 28 नवंबर तक ‘दिल्ली मार्च’ निकाल रहे हैं। पंजाब-हरियाणा बॉर्डर पर आज गुरुवार को प्रदर्शन के दौरान पुलिस और प्रदर्शनकारिओं के बीच झड़प में पथराव हुआ। आज संविधान दिवस के दिन पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर पानी की बौछार की और आंसू गैस के गोले भी दागे जिससे वो तितर-बितर हो जाएं।

गौरतलब है की किसान विरोधी बिल के खिलाफ प्रदर्शन के लिए दिल्ली आ रहे पंजाब के हजारों किसानों को हरियाणा पुलिस द्वारा अंबाला में ही रोक दिया है। इस कारण से भाजपा शासित हरियाणा की पुलिस और प्रदर्शनकारी किसानों के बीच टकराव की स्थिति दिख रही है। किसानों और पुलिस के बीच हुई झड़प के दौरान ईंट-पत्थर भी चले हैं। किसानों को रोकने के लिए पुलिस ने सड़कों और पुल पर बैरिकेड्स लगाए थे जिसे किसानों तोड़कर नदी में फेंक दिया। किसान पुरे मनोबल के साथ आगे बढ़ रहे थे और ये देख पुलिसकर्मियों ने आज सुबह सार्ड के मौसम में उन पर ठंडे पानी की बौछार की है और आंसू गैस के गोले भी दागे हैं। प्रदर्शनकारिओं का कहना है की ये सरकार की तानाशाही रवैये की निशानी है।

जानिये क्यों हो रहा प्रदर्शन?
इसी वर्ष सितंबर के महीने में मोदी सरकार ने कृषि सुधारों के लिए 3 कानून — द फार्मर्स प्रोड्यूस ट्रेड एंड कॉमर्स (प्रमोशन एंड फेसिलिटेशन) एक्ट; द फार्मर्स (एम्पावरमेंट एंड प्रोटेक्शन) एग्रीमेंट ऑफ प्राइज एश्योरेंस एंड फार्म सर्विसेस एक्ट और द एसेंशियल कमोडिटीज (अमेंडमेंट) एक्ट लाये थे। इन कानूनों का पुरे देश में बड़े स्तर पर विरोध हुआ। सबसे ज्यादा विरोध देश के उत्तर पश्चिमी राज्य पंजाब और हरियाणा में हो रहा है। वह के किसान पिछले दो महीनों से सड़कों पर रहकर सरकार को घेर रहे हैं। देश के किसानों को डर कई कि अगर सरकार ने MSP हटा दी तो उनपे आफत आ सकती है और उनका शोषण किया जा सकता है। हालांकि खुद प्रधानमंत्री मोदी इससे इनकार कर चुके हैं।

किसानों के समर्थन में आयी कांग्रेस महासचिव प्रियंका गाँधी
प्रदर्शन कर रहे किसानों के समर्थन में कांग्रेस पार्टी के महासचिव प्रियंका गाँधी ने ट्वीट किया और लिखा कई, “किसानों से समर्थन मूल्य छीनने वाले कानून के विरोध में किसान की आवाज सुनने की बजाय भाजपा सरकार उन पर भारी ठंड में पानी की बौछार मारती है।
किसानों से सबकुछ छीना जा रहा है और पूंजीपतियों को थाल में सजा कर बैंक, कर्जमाफी, एयरपोर्ट रेलवे स्टेशन बांटे जा रहे हैं।

Keep visiting The Ganga Times for such interesting news, Bihar News, India News, and World News. Follow us on Facebook, Twitter, and Instagram for regular updates.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *