भारत में मिली है लाखों की कीमत वाली दुर्लभ बिल्ली; खासियत सुनकर हैरान हो जाएंगे

Originating in Thailand, Khao Manee Cat is a rare species. It has an ancient ancestry that dates back to hundreds of years. Khao Manee cats are pure white in colour, having blue and golden eyes. These cats are strong, agile, and quite intelligent.

The Ganga Times, Betul, Madhya Pradesh: आपने अनेकों प्रकार की बिल्लियां देखी होगी। लेकिन मध्य प्रदेश के बैतूल में स्थानीय लोगों ने एक ऐसी देखी है, जो अपने आप में अनोखी है। ऐसी दुर्लभ प्रजाति की बिल्ली को लाखों में एक माना जाता है। एक ऐसी बिल्ली जिसे सभी लोग अपने दिल के करीब रखना चाहेंगे। लोगों में उत्सुकता है, बड़ी संख्या में इसे देखने वाले आ रहे हैं।

कैसी है ये अनोखी बिल्ली? (How is this Khao Manee Cat in India?)
सफेद रंग की इस बिल्ली की एक आंख नीली और दूसरी आंख सोने के रंग की है। जो इसे देख रहा है अचंभित रह जाता है। इस खूबसूरत बिल्ली ने परिवार के सभी सदस्यों का दिल जीत लिया है।
दरअसल, बात दो महीने पहले की है जब बैतूल जिले के रहने वाले अनुभव सिंह भोपाल से अपने गांव सारणी जा रहे थे। रास्ते में जंगल के पास किसी कारण से रुके तो देखा कि पेड़ पर एक बिल्ली बैठी हुई है और नीचे कुत्तों ने उसे घेर रखा है। कुत्तों को वहां से भागकर अनुभव बिल्ली को अपने घर ले आये। अब ये अनूठी बिल्ली उनके परिवार की एक अहम् सदस्य हो गई है.

Khao Manee Cat found in Madhya Pradesh's Betul is named Hezal by Anubhav Singh
(Courtesy: AajTak)

बाजार में 6-7 लाख रूपये कीमत है इस बिल्ली की (Price of Khao Manee Cat in India)
अनुभव ने इस अनोखी बिल्ली के बारे में इंटरनेट पर ढूंढा तो पता चला की इसकी प्रजाति भारत में नहीं मिलती है। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में इस की कीमत करीब 6-7 रूपये है। बताया जाता है की ये बिल्ली थाइलैंड में पाई जाती है। परिवार वालों ने इस प्यारी बिल्ली का नाम रहा है – हेज़ल। अनुभव का कहना है की हम बहुत लकी हैं जो ये हमें मिली है।

विदेशों में ‘खाओ मेनी कैट’ के नाम से जानी जाती है (Khao Manee Cats are found in Thailand)
बैतूल जेएच कॉलेज के बायोटेक्नॉलॉजी विभाग के एचओडी सुखदेव डोंगरे का कहना हैं कि विदेशों में, जहाँ ये पाई जाती है, लोग इसे ‘खाओ मेनी कैट’ के नाम से जानते हैं। आमतौर पर थाईलैंड में पाई जाने वाली इस बिल्ली प्रजाति की खासियत ये है कि यह काफी होशियार और फुर्तीली होती है। इस प्रजाति को बढ़ाने के लिए विशेष प्रकार की ब्रीडिंग कराई जा रही है। इसके आँखों के ब्लू और गोल्डन होने के पीछे का कारण आईरिस स्ट्रक्चर होता है। यह जन्मजात होती है।

अगर आपके पास भी कोई कहानियां या ब्लॉग है तो हमें भेज सकते हैं। हम उसे ‘गंगा टाइम्स’ पर प्रकाशित करेंगे।

Keep visiting The Ganga Times for Bihar News, UP News, India News, and World News. Follow us on FacebookTwitter, and Instagram for regular updates.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *