BJP का लाइट वर्जन न बने Congress, ज़ीरो बनते देर नहीं लगेगी; क्या है Shashi Tharoor का इशारा?

Congress MP Shashi Tharoor ने कहा की भारत में धर्मनिरपेक्षता खतरे में है और भाजपा कभी भी इसे संविधान से हटाने की मुहिम शुरू कर सकती है।

Shashi Tharoor File Photo (Courtesy: Deccan Herald)

New Delhi: कांग्रेस (Congress) सांसद शशि थरूर  (Shashi Tharoor) ने अपनी पार्टी को आगाह करते हुए कहा है कि अगर हम बीजेपी का संक्षिप्त संस्करण बनने की राह पर चलते हैं तो ज़ीरो पर आ जाएँगे। थरूर अपनी पुस्तक “The Battle Belonging” को लेकर इंटरव्यू दे रहे थे। सांसद ने कहा कि सेकुलरिज्म (Secularism) भले ही एक शब्द है लेकिन इसका महत्व सामवैधानिक रूप से बड़ा है। अगर सरकार इसे संविधान से निकाल भी देती है, फिर भी मूलभूत ढांचे की वजह से हमारा संविधान सेकुलर ही बना रहेगा. 

Secularism in India is in danger: Congress MP Shashi Tharoor

केरल के तिरुवनंतपुरम से सांसद (Thiruvananthapuram MP) श्री थरूर ने कहा की सैद्धांतिक और व्यवहारिक दोनों रूप में धर्मनिरपेक्षता (Secularism) खतरे में है। सत्तारूढ़ दल इस शब्द को संविधान से हटाने का प्रयास भी कर सकती है लेकिन कोई भी घृणा फैलाने वाली ताकतें देश के धर्मनिरपेक्ष चेहरे को नहीं बदल सकतीं। कांग्रेस (Congress) पार्टी को बीजेपी का “लाइट वर्जन” बनने का जोखिम नहीं मोल लेना चाहिए। इस तरह का कोई भी प्रयास उसे “कांग्रेस जीरो” की ओर घसीट ले जाएगी। हालाँकि उन्होंने स्पष्ट किया कि उनकी पार्टी बीजेपी (BJP) की राजनीतिक विचारधारा से कोई इत्तेफ़ाक नहीं रखती। कांग्रेस के भीतर भारत की धर्मनिरपेक्षता की भावना अभी भी गहरी जड़े जमाए हुए है.

Congress Party and Rahul Gandhi believes in Hinduism, not Hindutva: Mr. Tharoor

जब पूर्व केंद्रीय मंत्री से कांग्रेस के नरम हिन्दुत्व (soft Hindutva) का रुख अपनाए जाने के सवाल पूछा गया तब उन्होंने कहा, वह मानते हैं कि यह हमारे देश के लिबरल लोगों (liberal Indians) के लिए एक वास्तविक चिंता का विषय है, लेकिन कांग्रेस पार्टी बीजेपी का लाइट वर्जन बनाने की कोई कोशिश नहीं कर रही है। श्री थरूर ने कहा की हिन्दूवाद (Hinduism) और हिन्दुत्व (Hindutva) के बीच का फर्क कांग्रेस पार्टी समझती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *