1971 Indo-Pak War में कराची को तबाह करने वाले एडमिरल सरदारीलाल नंदा की कहानी: Admiral SM Nanda

The 1971 India-Pakistan War or the Bangladesh Liberation War is majorly known for the heroic efforts of Indian Army and its veterans. Today, we will know about the then Indian Navy chief Admiral SM Nanda (Sardarilal Mathradas Nanda).

SM Nanda with PM Indira Gandhi

The Ganga Times: 1971 का भारत-पाकिस्तान युद्ध (1971 India-Pakistan War) आर्मी की वीरता के लिए तो जाना जाता है, लेकिन हम शायद भारतीय नौसेना और वायुसेना (Indian Navy and Indian Air Force) के योगदान के बारे में उतना नहीं जानते। आज हम बाते करेंगे उस वक़्त के नौसेना प्रमुख एडमिरल सरदारीलाल मथरादास नंदा (Admiral Sardarilal Mathradas Nanda) के बारे में जिन्होंने 1971 के युद्ध (1971 War) में अपने शानदार नेतृत्व से भारत को विजय दिलाने में अहम् भूमिका निभाई थी।

एडमिरल नंदा (Admiral SM Nanda) ने भारत के समुद्री सेना का नेतृत्व 1 मार्च 1970 से 28 फरवरी 1973 तक नौसेना स्टाफ के 8वें प्रमुख के रूप में किया। उनका जन्म 10 अक्टूबर 1915 को वर्त्तमान पाकिस्तान के गुजरांवाला शहर में हुआ था। उन्हें 1971 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के दौरान भारतीय नौसेना (Indian Navy) का नेतृत्व करने के लिए जाना जाता है। युद्ध के दौरान उन्होंने पश्चिम और पूर्वी पाकिस्तान दोनों के नौसैनिक नाकाबंदी को सफलतापूर्वक अंजाम दिया, जिसकी बदौलत भारत ने पाकिस्तान को जबरदस्त पटखनी दी थी। भारतीय नौसेना के सुनहरे इतिहास में नंदा का नाम सबसे उल्लेखनीय कमांडरों में से गिना जाता है।

कैसे किया कराची को तबाह? (How Admiral SM Nanda destroyed Karachi?)

हुआ यूँ था की कराची के बंदरगाह पर ऑपरेशन ट्राइडेंट (Operation Trident on Karachi Port) के दौरान हुए हमले के बाद, पाकिस्तान सचेत हो गया था और अपने तट की हवाई निगरानी करने लगा। पाकिस्तान द्वारा ऐसा इसलिए किया गया था क्योंकि भारतीय नौसेना के बड़े जहाजों ने दुश्मन तटों पर अपनी उपस्थिति बरक़रार रखी थी। पाकिस्तानी युद्धपोतों ने व्यापारी शिपिंग के साथ समझौता करके भारतीय नौसेना को बाहर करने का प्रयास किया। इन चालों का मुकाबला करने के लिए, भारत ने ऑपरेशन पायथन (Operation Python) को 8/9 दिसंबर 1971 की रात को लॉन्च किया गया था।

एडमिरल एस एम नंदा (Admiral SM Nanda) ने अपनी सेना की एक हमलावर टोली जिसमें एक मिसाइल बोट और दो फ्रिगेट शामिल थे, को कराची तट पर हमले के लिए भेजा था। भारतीय जांबाजों ने बिना किसी नुकसान के, पाकिस्तानी बेड़े के टैंकर PNS Dacca को पूरी तरह से ध्वस्त कर दिया था। कराची पोर्ट पर तैनात दो अन्य विदेशी जहाजों को भी हमले के दौरान नुक्सान पंहुचा था।

कृतज्ञ राष्ट्र भारत सरदारीलाल मथरादास नंदा (Admiral Nanda) सहित देश के उन सभी सैनिकों को सलाम करता है जिन्होंने भारत माता की लाज को बचाये रखने में अपना तन-मन त्याग दिया।

Keep visiting The Ganga Times for such interesting India-Pakistan War stories, Bihar News, India News, and World News. Follow us on FacebookTwitter, and Instagram for regular updates.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *