बिहार में उपज रही है दुनिया की सबसे महँगी सब्जी; आखिर क्यों बिक रही है सोने के भाव? Hop shoots farming

The popularity of hop shoots farming in India is getting attention. The world’s costliest vegetable is now being cultivated in Bihar. Doctors and scientists say, hops plants are a rich source of antioxidants. Learn about the hop shoots vegetable in Hindi.

The costliest vegetable in the world: Hop shoots farming in Bihar and India.
(Courtesy: Indian Express)

The Ganga Times, Aurangabad (Bihar): एक ऐसी सब्जी जिसका इतिहास करीब 1300 वर्षों का है, जिसके बारे में एक महान कवि ने अपनी कविता में लिखा है। एक ऐसी सब्जी जो कई रोगों की दवा होने के साथ-साथ एक प्रकार का नशा भी है। एक ऐसी सब्जी जिसकी कीमत चाँदी से भी अधिक है। अब आप सोच रहे होंगे ऐसी क्या ख़ास बात है इस सब्जी में! अब अगर मैं कहूं कि इसकी खेती बिहार (hop shoots farming in Bihar) में हो रही है तो आपको आश्चर्यचकित होना लाजिम है।

बिहार में कैसे आना हुआ इस सब्जी का? (How hop shoots farming came to Bihar?)

हॉप-शूट्स नाम की इस सब्जी को बिहार के औरंगाबाद में ट्रायल बेसिस पर उगाया जा रहा है। इस सब्जी के एक किलोग्राम की कीमत (hop shoots price) लगभग 1 लाख रुपये है और इसे दुनिया की सबसे महंगी सब्जी (World’s costliest vegetable) बताया जा रहा है। बिहार के औरंगाबाद जिले के करमडीह गाँव के 38 वर्षीय किसान अमरेश सिंह ने 5 कट्ठे में हॉप-शूट्स की खेती शुरू की। उन्होंने 2012 में हजारीबाग के सेंट कोलंबस कॉलेज से इंटरमीडिएट-पास किया था।

Amresh Singh of Aurangabad is doing hop shoots farming in Bihar.

Courtesy: AgriFarming

अमरेश का कहना है कि यह फसल भारतीय बाजार में बहुत ही कम देखने को मिलती है और इसे केवल ऑर्डर देकर ही मंगाया जाता है। ‘मुझे यह कहते हुए अत्यंत खुशी हो रही है कि मैंने इसकी 60 प्रतिशत से अधिक खेती सफलतापूर्वक कर दी है।’ अमरेश ने दो महीने पहले वाराणसी के भारतीय सब्जी अनुसंधान संस्थान से इसे लाया था, और लाने के बाद इसके पौधे लगाए थे। उनका मानना है कि बिहार में इस सब्जी को शानदार सफलता मिलेगी और यह भारतीय कृषि व्यवस्था में बदलाव लाएगा। (Hop shoots vegetable can transform Indian agriculture system)

अब जान भी लीजिये क्या है इस सब्ज़ी का इतिहास (History of Hop Shoots Vegetable)

हॉप्स एक प्रकार के पौधों की प्रजाति है। इनकी पत्तियों को सब्जी के रूप में खाया जाता है। हॉप की पहली प्रलेखित खेती वर्तमान जर्मनी के हॉलर्टाऊ क्षेत्र में 736 ई में की गई थी। हालांकि शराब बनाने में हॉप्स के उपयोग का पहला उल्लेख 1079 ई में आया था। तब इसे बीयर में कड़वाहट लाने के लिए इस्तेमाल किया गया था। बाद में इसे लोग भोजन में महक बढ़ने के लिए इस्तेमाल करने लगे। आगे चलकर चिकित्सा के क्षेत्र में इसका चलन बढ़ा और कुछ समय बाद लोग इसे पकाकर भी खाने लगे। (Hop shoots farming began in Germany and Europe)

आखिर क्या ख़ास है इस सब्जी में जो ये इतनी महंगी है? (Why is hop shoots price in India and rest of the world high?)

hop shoots vegetable in Bihar. Hop shoots price in India
हॉप शूट्स कि सब्जी (Courtesy: dailybeer.ca)

जैसा की हमने शुरुआत में ही चर्चा की थी कि हॉप शूट्स की पत्तियों को सब्ज़ी की तरह उपयोग किया जाता है। लेकिन इसके फल, फूल और तने भी काफी उपयोगी हैं। पूरे विश्वभर में शराब के कारोबार में और दवाओं के उत्पादन में इसकी बहुत मांग है। कई डाक्टरों का मानना है कि इस सब्ज़ी के तने से बनाई गई दवाओं से क्षय रोग से निजात पाया जा सकता है। इसके अलावा कैंसर, इनसॉम्निया (नींद न आना), यौन संक्रमण, हृदय संबंधी रोग, आदि में भी हॉप्स खूब कारगर है। (Hops shoots is useful in many diseases)

हॉप शूट्स के सोने के भाव के पीछे इसका आसानी से न उगना भी एक प्रमुख कारण है। इसके पौधे आसानी से और एक साथ नहीं लग पाते इसलिए उत्पादन करने वालों को इसका खूब खयाल रखना पड़ता है। हॉप शूट्स को लेकर वैज्ञानिकों ने कई प्रकार के शोध किये हैं। अगर अमरेश सिंह का लगाया ये फसल सफल होता है तो ये वाकई में बिहार की कृषि क्षेत्र के लिए एक वरदान साबित हो सकता है। (Hop shoots farming in India can be a lifeline for Indian farmers)

अगर आपके पास भी कोई कहानियां या ब्लॉग है तो हमें भेज सकते हैं। हम उसे ‘गंगा टाइम्स’ पर प्रकाशित करेंगे।

Keep visiting The Ganga Times for Bihar News, UP News, India News, and World News. Follow us on FacebookTwitter, and Instagram for regular updates.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *