शहंशाह दिवस: अमिताभ बच्चन की 5 अंडररेटेड फिल्में

On legendary actor Amitabh Bachchan’s 79th birthday, list of his 5 underrated movies.

अमिताभ बच्चन Shahenshah of Hindi Cinema

अमिताभ बच्चन आज यानी 11 अक्टूबर को अपना 79वां जन्मदिन मना रहे है। अमिताभ बच्चन को लोग कई नामों से बुलाते है और साथ में लोग उन नामों को रखने की कहानी भी जानते है। बच्चन साहब ने ‘Angry young man’, ‘Shahenshah’ से ‘Mahanaayak’ तक का सफर लगभग पाँच दशकों में पूरा किया और इन पाँच दशकों में उन्होने कई हिट व फ्लॉप फिल्में दी। उनकी कुछ फिल्में अच्छी कहानी की वजह से चली तो कुछ सिर्फ उनके नाम से, आज यहाँ हम आपको उनकी वो 5 फिल्में बतायेंगे जिसमे अमिताभ ने बहुत अच्छा काम किया मगर उनके अच्छे काम को उतनी प्रशंसा प्राप्त नहीं हुई।

आइए जानते हैं अमिताभ बच्चन की उन 5 अंडररेटेड फिल्मों के बारे में –

सात हिन्दुस्तानी

अमिताभ बच्चन in Saat hindustani

1969 में आई अमिताभ बच्चन की यह पहली फिल्म है। अमिताभ बच्चन ने फिल्म करते हुए कभी नहीं सोचा होगा कि यह फिल्म भविष्य में सिर्फ उनके कारण ही बार-बार याद की जायेगी। अमिताभ ने इस फिल्म में बिहार के एक कवि अनवर की भूमिका निभाई थी, जो गोवा को पुर्तगालियों से मुक्त करवाने के लिए छह और राष्ट्रवादियों के साथ मिल अपने मिशन को अंजाम देता है। अमिताभ बच्चन ने अपने करियर के शुरुआत की 12 फिल्में फ्लॉप दी थीं मगर इस फिल्म को एक नए नवेले अमिताभ के अंदर छुपे अभिनय की आग के लिए बार बार देखा जाना चाहिए।

परवाना 

अमिताभ बच्चन in Parwana

जंजीर के आने से पहले गर अमिताभ की कोई फिल्म है जिसे उनकी अदाकारी के लिए याद रखा जाना चाहिए तो वो फिल्म है,परवाना। यह फिल्म एबी की एक अनसुनी जीत है और इस फिल्म को उस सीन के लिए के लिए देखना चाहिए जहाँ एबी का किरदार अपने प्यार को पाने के लिए अपने ही पिता को मारने के लिए साजिश रचता है। अपने प्यार को पाने के लिए जिस हद तक एबी इस फिल्म में जाते है उसे देखते हुए हम भूल जाते है कि यह मात्र एक फिल्म है।

सौदागर

अमिताभ बच्चन in Saudagar

सुधेन्दु रॉय द्वारा निर्देशित 1973 की यादगार फिल्म सौदागर। कई मायनों में यह एक ख़ास फ़िल्म थी क्योंकि इस फिल्म ने उस वक्त दों बातें प्रमाणित कर दी थीं। पहली ये कि, हिन्दी फ़िल्में भी अनजान नहीं थी समाज के स्वरूप से, और दूसरी ये कि अमिताभ बच्चन की अभिनय क्षमता का कोई जवाब नहीं। आपको बता दे कि 1973 में ही जंजीर आई थी जिसके बाद से लोगो के लिए अमिताभ ‘angry young man’ बन गए और इसी साल अक्टूबर में सौदागर आई जिसमे लुंगी डाले सरल स्वभाव में एक गुड़ बेचने वाले मोती मियां  के किरदार में दिखे अमिताभ बच्चन।

दो अनजाने

अमिताभ बच्चन in Do Anjaane

1976 में आई इस फिल्म को रेखा और अमिताभ की साथ में आई पहली फिल्म के रूप में जाना जाता है। मेरे हिसाब से इस फिल्म ने हिन्दी सिनेमा को सर्वश्रेष्ठ अदाकारी करने वाली एक जोड़ी दी। इस फिल्म में अमिताभ एक ऐसे व्यक्ति की भूमिका निभा रहे हैं जिसे उसकी पत्नी और सबसे अच्छे दोस्त ने धोखा दिया है, अमिताभ ने इस किरदार को अपने ट्रेडमार्क गुस्से को दिखाते हुए एक ऐसा प्रदर्शन दिया जो मार्मिक था और आज भी है।

निशब्द

अमिताभ बच्चन in Nishabd

2007 में आई इस फिल्म में बिग बी 60 से अघिक उम्र के किरदार में नज़र आए थे जिसको अपनी दोस्त की बेटी से बेहद प्यार होता है। इस फिल्म ने बिग बी के करियर की दूसरी पारी को ईंधन देने का काम किया। फिल्म में मौजूद बोल्ड सीन्स और बिग बी की अदाकारी ने खूब सुर्खियां बटोरी।

यूँ तो शंहशाह की ‘जंजीर, ‘दीवार’, ‘शोले’, ‘अग्निपथ’, ‘ब्लैक’, ‘पा’, ‘पीकू’, ‘पिंक’ और ‘गुलाबो सिताबो’ सहित कई लोकप्रिय फिल्में हैं जिनके लिए उन्हे अनगिनत समीक्षकों की प्रशंसा और अवॉर्ड भी मिल चुके है। लेकिन अगर आपने उनकी ऊपर बताई गई 5 अंडररेटेड फिल्में नहीं देखी तो खोज कर ज़रूर देखिए।

बाकी बच्चन साहब की आने वाली ‘झुंड’, ‘ब्रह्मास्त्र’, ‘मेडे’ और ‘गुड बाय’ जैसी फिल्मों का इंतज़ार करिए।

Keep visiting The Ganga Times for Entertainment News, India News, and World News. Follow us on FacebookTwitter, and Instagram for regular updates.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *