Sunday, March 3
Shadow

जानिए क्यों इतना प्रसिद्ध है राजगीर मलमास मेला(Rajgir Malmas Mela)?

राजगीर मलमास मेला (Rajgir Malmas Mela)एक लोकप्रिय धार्मिक मेला है जो हिंदू कैलेंडर के मलमास महीने के दौरान लगता है। मलमास एक अतिरिक्त महीना है जो चंद्र कैलेंडर में लगभग हर 32 महीने में आता है।

Rajgir Malmas Mela
Rajgir Malmas Mela 2023

राजगीर में मलमास मेले (Rajgir Malmas Mela)की उत्पत्ति प्राचीन काल से मानी जाती है। मलमास महीने के दौरान, जिसे कुछ समारोहों और अनुष्ठानों के लिए अशुभ माना जाता है, लोग राजगीर में प्रार्थना करने, आशीर्वाद लेने और धार्मिक गतिविधियों में भाग लेने के लिए इकट्ठा होते हैं। यह मेला भारत के विभिन्न हिस्सों से बड़ी संख्या में भक्तों और तीर्थयात्रियों को आकर्षित करता है।

मलमास महीना क्या है?

भारतीय गणना पद्धति के अनुसार प्रत्येक सूर्य वर्ष 365 दिन और लगभग 6 घंटे का होता है, जबकि चंद्र वर्ष 354 दिनों का होता है। दोनों वर्षों के बीच लगभग 11 दिन का अंतर होता है, जो हर तीन वर्ष में लगभग 1 माह के बराबर होता है। इस अंतर को पाटने के लिए हर तीन साल में एक चंद्र मास अस्तित्व में आता है, जिसे अतिरिक्त मास के कारण अधिकमास या मलमास का नाम दिया गया है।

राजगीर मलमास मेला(Rajgir Malmas Mela) कई कारणों से प्रसिद्ध है:

1. धार्मिक महत्व:

राजगीर मलमास मेला (Rajgir Malmas Mela)हर 3 साल के बाद मलमास महीने के दौरान आयोजित होने वाले महत्वपूर्ण हिंदू धार्मिक त्योहार मेलों में से एक है। मलमास को हिंदू कैलेंडर में एक महत्वपूर्ण महीना माना जाता है, और कई हिंदू भगवान विष्णु से आशीर्वाद लेने के लिए राजगीर जाते हैं क्योंकि उनका मानना ​​है कि इस मलमास महीने के दौरान भगवान विष्णु उन्हें प्रसन्न करते हैं। राजगीर मलमास मेले के दौरान भक्त विभिन्न धार्मिक गतिविधियाँ, प्रार्थनाएँ करते हैं और अपने पापों का प्रायश्चित करते हैं।

2. आध्यात्मिक कायाकल्प:

कई भक्तों के लिए, राजगीर मलमास मेले (Rajgir Malmas Mela)में भाग लेना आध्यात्मिक रूप से उत्थानकारी अनुभव है। राजगीर मलमास मेला में आकर श्रद्धालुओं को अच्छा लग रहा है. यह आत्मनिरीक्षण, भक्ति और परमात्मा से जुड़ने का अवसर प्रदान करता है, जिससे आंतरिक शांति और शांति की भावना पैदा होती है।

3. भारी भीड़:

यह मेला देश भर से बड़ी संख्या में भक्तों और पर्यटकों को आकर्षित करता है। मलमास मेले के दौरान हर दिन भारत के विभिन्न हिस्सों से लगभग एक लाख लोग आते हैं। राजगीर मलमास मेला (Rajgir Malmas Mela)इसे विविध पृष्ठभूमि और विश्वास वाले लोगों का एक महत्वपूर्ण समागम बनाता है। यह सभा आयोजन के समग्र आकर्षण और महत्व को बढ़ा देती है। बड़ी संख्या में एकत्रित होने के कारण राजगीर का मलमास मेला बिहार के सबसे प्रसिद्ध मेलों में से एक है।

4. सामाजिक और आर्थिक प्रभाव:

मेला स्थानीय अर्थव्यवस्था में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, क्योंकि यह राजगीर में पर्यटन और व्यापार को बढ़ावा देता है। कई स्थानीय लोग और व्यवसायी हर समय राजगीर मलमास (Rajgir Malmas Mela)का इंतजार करते हैं ताकि वे अच्छी कमाई कर सकें। यह स्थानीय लोगों के लिए आय उत्पन्न करता है जो विभिन्न वस्तुओं को बेचने, आवास प्रदान करने और आगंतुकों को अन्य सेवाएं प्रदान करने में भाग लेते हैं। राजगीर मेला कुछ स्थानीय विक्रेताओं का भी समर्थन करता है।

5. ऐतिहासिक और पौराणिक संबंध:

भारतीय पौराणिक और ऐतिहासिक आख्यानों में राजगीर का बहुत महत्व है। ऐसा माना जाता है कि यह वह स्थान है जहां जैन धर्म के 24वें तीर्थंकर भगवान महावीर ने अपने जीवन का एक बड़ा हिस्सा तपस्या करते हुए बिताया था। यह स्थान भगवान बुद्ध से भी जुड़ा हुआ है, जिन्होंने राजगीर में उपदेश देते और अपनी शिक्षाओं का प्रसार करते हुए कई वर्ष बिताए। यह समृद्ध ऐतिहासिक और धार्मिक पृष्ठभूमि राजगीर को जैन और बौद्ध दोनों के लिए एक आवश्यक तीर्थ स्थल बनाती है।

6. सांस्कृतिक कार्यक्रम:

राजगीर मलमास मेला (Rajgir Malmas Mela)सांस्कृतिक कार्यक्रमों के लिए सबसे प्रसिद्ध है। राजगीर मलमास मेले में डांस शो सबसे प्रसिद्ध सांस्कृतिक कार्यक्रम है। राजगीर मलमास मेला विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रमों, लोक नृत्यों, संगीत प्रदर्शनों और नाटकीय कार्यक्रमों के लिए एक मंच के रूप में कार्य करता है। विभिन्न क्षेत्रों के लोग अपनी सांस्कृतिक विरासत का प्रदर्शन करने के लिए एक साथ आते हैं, जिससे मेला एक जीवंत और समृद्ध अनुभव बन जाता है।

Keep visiting The Ganga Times for such beautiful articles. Follow us on FacebookTwitterInstagram, and Koo for regular updates.

%d bloggers like this: