Monday, October 3
Shadow

Poetry and Shayari

मदर्स दे क्यों मनाया जाता है? Mothers day kyu manaya jata hai?

मदर्स दे क्यों मनाया जाता है? Mothers day kyu manaya jata hai?

Latest News, Culture, Poetry and Shayari
Know why is Mothers Day celebrated. History of Mothers Day. Mothers day kyu manaya jata hai? माँ!क्या लिखूं उसके बारे में जिसने मुझे लिखना सिखाया हो?मेरी हैसियत ही क्या उसके सामने जिसने मेरी हैसियत को गढ़ा हो?माँ है वो — ब्रह्माण्ड की रचयिता है, जगत जननी है।मैं क्या लिखूंगा उसके बारे में? हमारी गलतियां, हमारा गुरूर, गुस्सा सब चुपचाप अंदर दबा लेती है।दुखों के पहाड़ को सीने पे रखकर हमारे मंगल की कामना करती है वो।जिसके जीवन में सिर्फ एक ही मकसद है – तुम्हें खुश देखना।क्या बोलूं मैं उसके बारे में, जिसने मुझे बोलना सिखाया। माँ की महिमा का बखान तो अनंत काल तक ख़त्म ही नहीं हो सकता। Mothers Day Kyu Manaya Jata Hai? Mothers day kyu manaya jata hai? Why is Mothers Day celebrated? आज अंतर्राष्ट्रीय मातृ दिवस है। International Mother's Day। मई महीने का दूसरा रविवार दुनियाभर के माँओ...
Love, Lips and Life: Ridhi Jain Quotes

Love, Lips and Life: Ridhi Jain Quotes

Poetry and Shayari
There is nothing in the world without love, they say. Let's feel the wind of love with Ridhi Jain quotes. "Your presence in my life is like a cold evening breeze, making you feel good for seconds and leaving you with a chill spine." "Your lips taste sweeter than chocolates, and I want to relish every bit of it." "Make her feel loved more than you say I love You." Keep visiting The Ganga Times for Bihar News, Madhya Pradesh News, India News, and World News. Follow us on Facebook, Twitter, and Instagram for regular updates.
रिद्धि रचना: कलम और मोहब्बत की लकीर

रिद्धि रचना: कलम और मोहब्बत की लकीर

Poetry and Shayari, Opinion
The Ganga Times, Ridhi Rachna Shayari: Ridhi Jain is an aspiring content creator from Delhi. She is interested in writing about life, society, love, optimism, and issues that touches one's heart. यह कलम भी कभी-कभी बागी हो जाती है,मैं कहना कुछ चाहती हूँ, ये बयां कुछ करती है। Yah kalam bhi kabhi kabhi baaghi ho jaati hai,main kahna kuchh chhahti hoon, ye bayan kuchh karti hai. यूँ तो कई लकीरें है मेरे हाथों मेंपर वो एक तुम्हारे नाम की लकीर सबसे गहरी है। yoon toh kai lakeerein hai mere haathon me,par woh ek tumhare naam ki lakeer sabse gahri hai. # अगर आपके पास भी कोई कहानियां या ब्लॉग है तो हमें भेज सकते हैं। हम उसे ‘गंगा टाइम्स’ पर प्रकाशित करेंगे। Keep visiting The Ganga Times for Bihar News, India News, and World News. Follow us on Facebook,...