Sunday, February 5
Shadow

Sammed Shikharji Controversy : जानिए क्या है सम्मेद शिखरजी विवाद

Sammed Shikharji Controversy : सम्मेद शिखरजी को पर्यटन स्थल घोषित करने के हेमंत सोरेन सरकार के फैसले के खिलाफ पूरे भारत से जैन समुदाय के लोग कई शहरों में विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं.

Sammed Shikharji Controversy.
Sammed Shikharji Controversy.

झारखंड में पारसनाथ पहाड़ियों पर स्थित सम्मेद शिखरजी जैनियों के लिए एक पवित्र तीर्थ स्थल है। झारखंड के गिरिडीह स्थित सम्मेद शिखरजी को पर्यटन स्थल बनाने की अधिसूचना जारी होने के बाद जैन समुदाय के लोग सड़कों पर उतर आए. सम्मेद शिखरजी को अपना पवित्र तीर्थस्थल बताते हुए जैन समाज के लोग इसे बचाने व संरक्षित करने की मांग करते हुए विरोध कर रहे हैं। नई दिल्ली के इंडिया गेट पर रविवार को जैन समुदाय ने भारी विरोध प्रदर्शन किया।

पारसनाथ स्टेशन इस मंदिर तक पहुँचने के लिए निकटतम रेलवे स्टेशन है। यह मधुबन से लगभग 25 किमी दूर डुमरी झारखंड में स्थित है। पारसनाथ स्टेशन दिल्ली और कोलकाता से ट्रेन द्वारा अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। निकटतम प्रमुख हवाई अड्डे रांची, पटना और कोलकाता हैं। आप सड़क मार्ग से भी शिखरजी मंदिर पहुंच सकते हैं। सड़कों की स्थिति अच्छी है और सार्वजनिक परिवहन द्वारा अच्छी कनेक्टिविटी है।

क्या है सम्मेद शिखरजी विवाद(Sammed Shikharji Controversy)

सम्मेद शिखरजी विवाद (Sammed Shikharji Controversy) इसलिए शुरू हुआ क्योंकि झारखंड सरकार ने तीर्थ स्थल को पर्यटन स्थल के रूप में अधिसूचित किया था। जैन समुदाय चाहता है कि सम्मेद शिखरजी तीर्थस्थल बने, लेकिन झारखंड सरकार ने इसे पर्यटन स्थल घोषित कर रखा है। पहले, शिखरजी मंदिर एक तीर्थयात्री का गंतव्य था।

सम्मेद शिखरजी को जैन समुदाय पर्यटन स्थल के रूप में नहीं चाहता है क्योंकि एक बार पर्यटन स्थल घोषित होने के बाद वहां मांस और शराब की बिक्री, पेड़ों की अवैध कटाई और पत्थरों का अवैध खनन होगा। सभी जैन समुदाय के लोगों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मांग पत्र लिखा है, जिसमें 5 सूत्री मांगें लिखी गई हैं.

सम्मेद शिखरजी विवाद (Sammed Shikharji Controversy)के बारे में ताजा अपडेट

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने पीएम मोदी और झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को पत्र लिखकर फैसले पर पुनर्विचार करने का आग्रह किया।

क्षेत्र को एक पवित्र क्षेत्र घोषित किया जाना चाहिए और मांस और नशीली दवाओं से संबंधित कोई भी पर्यटक गतिविधि नहीं होनी चाहिए।

इटावा में जनसभा का संचालन कर रहे जैन मुनि आचार्य सौभाग्य सागर महाराज ने कहा कि अनंत संतों के मोक्ष स्थल चौबीसी के शंकर भगवान भी झारखंड स्थित सम्मेद शिखर पर आए हैं.

Keep visiting The Ganga Times for such beautiful articles. Follow us on FacebookTwitterInstagram, and Koo for regular updates.

%d bloggers like this: